चंद्रयान 3 चाँद पर चंद्रयान 3 का सफर, जाने क्या मिला पूरा ब्योरा

भारत  का मून मिशन चंद्रयान 3 का चन्द्रमा पे सफर मिशन के बाद चाँद के बारे में बहुत महत्पूर्ण जानकारी इकट्ठा किया है साथ ही अन्य तत्तो का भी खोज की है और ॉक्सिगिं का खोज की है तो जानते है आज के इस पुरे पोस्ट में । चंद्रयान 3 चाँद पर चंद्रयान 3 का सफर, जाने क्या मिला पूरा ब्योरा

चाँद पर चंद्रयान 3 की सफर लैंडिंग के बाद बहुत नयी जानकारी मिली है और साथ ही साथ कई फोटो यानि पिक्चर भी विजे है जिस फोटो के जरिये कई जानकारी भी मिली है साथ में चाँद पे कई तत्तो मिला है जिसमे ऑक्ससीजन और एल्युमुनियम साmet अन्य तत्तो मिला है हाइड्रोजन भी मिला है जो अब तक कीसबसे बड़े खोज है चाँद पे पानी होने  की खोज का भी दवा किया है

चंद्रयान 3 का मुख्य उदेश क्या था –

1 चाँद के सतह पर सॉफ्ट और सुरक्षित लैंड करना

2- सॉफ्ट लैंड करने के बाद रोवल को चाँद पे उतरना

3- रोवल को चाँद के सतह पर भ्रमण करना

4- यथास्थिक वैज्ञानिक प्रयोग  करना

चंद्रयान 3 में अब तक क्या क्या मिला

चंद्रयान 3 चाँद के दक्षिणी ध्रुब में लैंडिंग करने के बाद चंद्रयान 3 के लैंडर से विक्रम और रोवर प्रागण ने बहुत सारा जानकारी सेंड किया और फोटो भी भेजा चाँद के दक्षिणी ध्रुब में खोज करना काफी महत्पूर्ण था इसलिए वंहा लैंड करवाया गया । दक्षिणी ध्रुब में लैंड करवाने से एक महत्पूर्ण जानकारी भी मिली की मानव का बसने का काफी अच्छा चैत्र है जंहा लगभग मानव रह सकता है

चन्द्रमा पे चाँद का तापमान 

चाँद पर जब चंद्रयान 3 लैंड किया तो लैंडर ने जब चाँद का तापमान नपा तो बहुत बड़े हैरान करने वाली बात सामने आयी है जब लैंडर तापमान नापा तो वंहा का यानि दक्षिणी ध्रुब का तापमान 0 से 70 डिग्री  तक जाता है जो एक आचर्यजनक बात है वीगैनिक को रेचश्र्च के लिए महत्पूर्ण बात है

तत्तो कौन कौन मिला चाँद पर 

चंद्रयान 3 जब लैंड हुआ तो उसमे से प्रागण रोवर से चाँद पे तत्तो का जानकारी मिला – ऑक्ससीजन , सल्फर , कैल्सियम , आयरन , अल्मुनियम , क्रोमियम , टाइटैनिक , सिलिकॉन , मगनीज , ये सभी तत्तो मिला है और ये सब चंद्रयान 3 से जो लैंडर निकला और उसमे से जो रोवल निकला तो रोवल के पेलोड लेजर इंड्यूज्ड ब्रेकडाउन स्पेक्ट्रोस्कोप की मदत से ये जानकारी मिला है

चंद्रयान 2 में जो तकनिकी कमी आयी थे उन सभी कमी को पूरा कर के और लैंडर को और अधिक तकनिकी से लाश कर के वीजा गया था तब जाकर सफर हुआ और सॉफ्ट लैंड हुआ

चंद्रयान 2 जा गया था तो उसमे भी ऑर्बिटर के साथ इसरो ने लैंडर मॉडर के अंदर लैंडर विक्रम और रोवल प्रगयान वीजा था

लेकिन किसी कारन बस लैंड नहीं हुआ था दुर्घटनाग्रथ हो गया था

लैंडर मडुअल का क्या खासियत है जाने ? 

चन्द्रमा पर सूर्योदय  और सूर्यास्त पृथ्बी के 14 दिन का होता है इसलिए चंद्रयान 3 के लैंडर 14 दिन तक ही काम किया और अभी रोवर और लैंडर को वोंही रखा है लेकिन जो 14 दिन चाँद के दक्षिणी ध्रुव में उतरा था वो 14 दिन तक रिसर्च किया चंद्रयान 3 का लैंडर 2 मीटर  लम्बा और 1 मीटर चौरा है 116 कम  ओछा है और 1749 किलोमीटर वजन है

लैंडर में क्या महत्पूर्ण चीज लगा है ?

लैंडर में एक एशा महत्पूर्ण चूज लगा है जिसका नाम  ilsa यानि इंस्टूमेंट फॉर लूनर सिस्मिक एक्टिविटी ये चाँद के स्तर पर होने वाली भूकंप को हमेशा नापेगा की भूकम की गतिबिधि क्या है वंहा पे वंहा पे भूकंप इसलिए नपा जा रहा था की फ्यूचर में मानब वंहा रह सकता है या नहीं पृथ्बी पे हजारो भूकम आते है जिसका कारन टेक्नॉनिक प्लेटो की गति के कारन आता है जिसका जाँच हमलोग सीस्मोग्राफी से करते है 

Leave a Comment